Moral Stories in Hindi Short – सुझ-बूझ, गुणों की पहचान , सुख-दुःख, फ़रिश्ते

Moral Stories in Hindi in short : दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए 4 बेस्ट प्रेरणादायक कहानियां लेकर आये हैं, मुझे उम्मीद हैं ये कहानियां आपको बेहद पसंद आएगी।

Moral Stories in hindi short, Moral stories in hindi in short, Panchatantra short moral stories in hindi, short moral stories in hindi for class 1, short moral stories in hindi for class 8, moral stories in hindi very short, moral stories in hindi for kids, Moral stories in hindi for class 7, Any Moral stories in hindi, Motivational stories in Hindi

सुझ-बूझ-Moral Stories in hindi short

एक बार एक छोटी बच्ची अपने पिता के साथ नदी पार कर रही थी। नदी का बहाव बहुत तेज होने के कारण पिता ने बच्ची से कहा तुम मेरा हाथ पकड़ लो, क्योंकि नदी का बहाव बहुत तेज हैं, तुम पानी मे बह सकती हो।
इस पर उस बच्ची ने पिता का हाथ पकड़ने से इनकार कर दिया, बल्कि उस बच्ची ने पिता से कहा पापा आप मेरा हाथ पकड़ लीजये। पिताजी ने कहा- बेटा, एक ही बात हैं।

Moral stories in hindi short

उस पर उस बच्ची ने पिता का हाथ पकड़ने से इनकार कर दिया, बल्कि उस बच्ची ने पिता से कहा पापा आप मेरा हाथ पकड़ लीजये। पिताजी ने कहा- बेटा, एक ही बात हैं।
इस बात पर फिर बच्ची ने उत्तर दिया- नही पिताजी, एक बात नही है, दोनो बात में बहुत अंतर हैं। अगर मैं आपका हाथ पकडूँगी और मेरा पैर फिसल गया तो संभव है कि मुझसे आपका हाथ छूट जाए, लेकिन यदि आप मेरा हाथ पकड़ते हैं और मेरा पैर फिसल जाए तो मुझे विश्वास है कि आप मेरा हाथ कभी नहीं छोड़ेंगे।(यह भी पढ़ें- Inspirational Story In Hindi – ये कहानियां आपकी जिंदगी बदल सकता हैं।)

Moral Stories in Hindi: सुख-दुःख

एक बार एक गाँव में रहने वाले सभी लोगों ने आपस में मिलकर एक बैठक किया। उस बैठक में सभी लोगो ने मिलकर निर्णय लिया कि गाँव में सब कुछ हैं, पर यहाँ कोई मंदिर नही हैं। इसलिए सभी मिलकर गांव में एक मंदिर बनाने का निर्णय लिया। फिर एक कारीगर को बुलाया और उससे कहा गया कि आप भगवान की एक मूरत बनाएँ।

Moral stories in hindi short

कारीगर मूर्ती का काम मे लग गया, थोड़ी दूर दो बड़े-बड़े पत्थर रखे थे। कारीगर ने उनके पास जाकर पहले पत्थर से कहा कि मैं तुम्हें दो-तीन साल तक हथौड़ी और छैनी से तराश कर एक मूर्ति बनाऊँगा, तुम्हें तकलीफ होगी, थोइ़ा दर्द सहन करना पड़ेगा, फिर तुम्हें ज़िन्दगी भर का आराम हो जाएगा, लेकिन उस पत्थर ने मना कर दिया।

फिर कारीगर ने जब दूसरे पत्थर के पास जाकर पूछा तो उसने हाँ कर दी। कुछ दिन बाद जब मन्दिर में भगवान की मूरत बनकर स्थापित हुई तो सब लोग हार-फूल, प्रसाद और नारियल चढ़ाने आए । जब लोगों को नारियल फोड़ने के लिए जगह तलाशने लगे तो सबको दूर वह पहला पत्थर दिखाई दिया, जिसने मुर्ति बनने से मना कर दिया था।

गुणों की पहचान

एक बार एक मकान की नीलामी हो रही थी, घर का सारा सामान एक के बाद एक बिक रहे थे।
अंत में एक ऐसा खराब,धूल खाया हुआ, गिटार मिला जिसके सभी तार खुले हुए थे। गिटार की हालत देखकर सभी लोग इसकी कीमत 50 रुपए से ज्यादा नही लगा रहे थे।

Moral stories in hindi short

फिर अचानक एक वृद्ध व्यक्ति भीड़ में से निकल कर आया और गिटार को साफ करके, उसे ठीक किया और बजाने लगा। कुछ देर बाद उसमें से अद्भुत स्वर निकलने लगे, उसके बाद उस गिटार की कीमत 50,000 हजार रुपए हो गाई।(Motivational Story In Hindi – ये 5 कहानियाँ आपको सफल बना सकती है)

फ़रिश्ते

एक बार की बात हैं, दो फ़रिश्ते एक धनी परिवार के यहाँ रात गुज़ारने के लिये रूके। परिवार के मालिक ने उनका ज़रा भी सम्मान नही दिया। उसने न तो अच्छा भोजन खिलाया और न ही उन्हें सोने के लिये अच्छा बिस्तर दिया।

सोते समय बड़े फ़रिश्ते को दीवार में एक छेद नजर आया तो वह उसकी मरम्मत करने लगा । यह देखकर छोटे फ़रिश्ते ने उससे पूछा कि ये क्या कर रहे हो ? उसने जवाब दिया कि कुछ चीजें वैसी नहीं होतीं जैसी दिखती हैं।

Moral stories in hindi short

दूसरे दिन वे एक गरीब किसान के यहाँ रुके। किसान ने अपनी हैसियत से बढ़कर उनकी खातिरदारी की। सवेरे जब वे उठे तो किसान और उसकी पत्नी रो रहे थे, कारण पूछने पर पता चला कि किसान की जीविका का एक मात्र साधन उसकी गाय मर चुकी थी। ये बात सुनकर छोटे फ़रिश्ते को बड़ा गुस्सा आया, उसने बड़े फ़रिश्ते से कहा पहले परिवार ने हमारे साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया, लेकिन तुमने उनकी दीवार की मरम्मत की। इस गरीब किसान ने हमारा कितना ख्याल रखा, लेकिन हमारे होते हुए भी उनकी गाय मर गयी।(Buy Hindi Motivational Book)

बड़े फ़रिश्ते कहा – जहाँ दीवार में छेद था, वहाँ से मुझे सोना(Gold) नजर आ रहा था और मैंने वह छेद इसलिये बंद कर दिया ताकि धनवान को वह सोना न मिल पाए। दूसरी स्थिति में मौत का फ़रिश्ता किसान की पत्नी को लेने आया था, लेकिन मैंने उसे गाय दे कर टरका दिया।

Leave a comment