Best Motivational Story In Hindi- ये 3 कहानियां आपको सफल बना सकती हैं

Best Motivational Story in Hindi: दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके लिए ऐसे 3 Best Motivational Story In Hindi लाये हैं, जिसे पढ़ने के बाद आपके जीवन में बहुत बड़ा परिवर्तन आ जायेगा। इसलिए दोस्तों तीनों कहानी को अंत तक जरूर पढ़ें।


best motivational story in hindi,बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी,best motivational story in hindi for students,world best motivational story in hindi, Motivational story in Hindi, Inspirational story in Hindi, Motivational story in Hindi for success, Motivational story in Hindi for Students, मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी, Motivational story in Hindi for depression.

कठिन परिस्थितियों को जीतना सीखो – Motivational  Story in Hindi

Best Motivational story in hindi

जीवन में परिस्थितियां कभी एक जैसी नहीं रहती, जीवन के भंवर में हमेशा उतार चढ़ाव आते रहते हैं। आपकी सोच यह तय करता हैं, कि आप कठिन परिस्थितियों का कैसे सामना करते हैं? क्या आपके अंदर वो हुनर या काबिलियत है जो आपको हर परिस्थिति से बाहर निकाल दे?

दोस्तों ऐसे ही एक कहानी हैं बहुत पुराने समय की, एक बार एक व्यापारी ने किसी धनी साहूकार से पैसा ब्याज पर उधार लिया था, लेकिन व्यपारी को व्यापार में नुकसान हो जाने की वजह से वह साहूकार का पैसा वापस लौटा नहीं पा रहा था।(यह भी पढ़ें- Ias Officer Kaise Bane – आईएएस ऑफिसर (IAS Officer) कैसे बने – पूरी जानकारी)

साहूकार बड़ा कुटिल था, उसने सोचा कि व्यापारी तो अब पैसा वापस कर नहीं पा रहा है तो क्यों ना इस परिस्थिति का फायदा उठाया जाए।
व्यापारी की एक बेहद सुन्दर बेटी थी।

साहूकार ने व्यापारी को एक सुझाव दिया, कि यदि तुम अपनी बेटी की शादी मुझसे करवा दो तो मैं तुम्हारा सारा कर्ज माफ़ कर दूँगा।

व्यापारी बेचारा मरता क्या ना करता। उसने अपनी बेटी को सारी बात बताई, समस्या बहुत बड़ी थी, साहूकार अधेड़ उम्र का कुरूप व्यक्ति था। अब उस बेटी के आगे 2 ही रास्ते थे –
पहला, या तो वो साहूकार से विवाह करने से इंकार कर दे और अपने पिता को कर्ज में दबा रहने दे।
दूसरा, साहूकार से ख़ुशी से विवाह कर ले ताकि उसका पिता का कर्ज माफ हो जाये, और वो स्वतंत्र होकर रहें।

Best Inspirational story in Hindi

दोस्तों, हमलोगों के जीवन में भी अक्सर ऐसे मोड़ आते रहते हैं, जब हमें लगने लगता है कि अब कोई रास्ता नहीं बचा है और हम बुरी तरह फंस चुके हैं। अख़बारों में, news में अक्सर ये सुनने में आता है कि लोग आत्महत्या तक कर लेते हैं। लेकिन ऐसी परिस्थिति से सामना करने के लिए अपने दिमाग को पानी की तरह रखिये, एकदम निर्मल, शांत और चलायमान। पानी को तो अपने बहते देखा ही होगा, पानी हर जगह से अपना रास्ता निकाल ही लेता है, ठीक वैसे ही बन जाओ।(यह भी पढ़ें- Moral Stories in Hindi in Short – बेस्ट 6 नैतिक कहानियां)

अब आगे देखिये लड़की ने क्या फैसला लिया –

लड़की ने साहूकार को बुलाया और उसके आगे एक शर्त रखी कि साहूकार एक थैला लाये और उसमें दो गोलियां डाले, एक काले रंग की तथा दूसरी सफेद रंग की। उसके बाद लड़की उस थैले से आँख बंद करके दोनों में से कोई एक गोली निकालेगी।

“गोली अगर काली निकली तो लड़की साहूकार से खुसी-खुसी विवाह कर लेगी और उसके पिता का कर्ज माफ़ कर दिया जायेगा।”

“साथ ही, अगर गोली सफ़ेद निकली तो भी साहूकार उसकी पिता का कर्ज माफ़ किया जायेगा, लेकिन लड़की साहूकार से विवाह नहीं करेगी।”

साहूकार तुरंत इस बात को मान गया और जल्द ही एक थैला लेकर आ गया। अब वह जब थैले में गोलियां डाल रहा था, तो लड़की ने देखा कि साहूकार ने चालाकी से थैली में दोनों गोली काली ही डाल दीं हैं।

अब लड़की यह देखकर परेशान हो गयी, कि अब वह करे तो क्या करे, साहूकार का भांडा फोड़ भी दे तो भी वह दूसरी किसी चाल में उनको जरूर फंसाएगा।

लड़की ने अपना दिमाग लगाया, और आगे बढ़ी और उसने थैले से एक गोली निकाली और गोली बाहर निकालते ही, उसे हाथ से छिटका दी, जिससे गोली नाली में जा गिरी।

world best motivational story in hindi

लड़की बोली – माफ़ करना, गोली मेरे हाथ से छिटक गयी लेकिन चिंता की कोई बात नहीं, थैले में अभी दूसरी गोली भी तो होगी उसे देख लेते हैं। अगर गोली सफेद निकली तो मैंने काली गोली उठायी होगी और थैले में गोली काली निकली तो मैंने सफेद गोली उठाई होगी।

व्यापारी ने थैले में हाथ डाला, तो थैली से काली गोली निकली।

व्यापारी बोला – अहा, बेटी थैले में काली गोली बची है इसका मतलब तुमने सफ़ेद गोली चुनी थी।

साहूकार बेचारा बोलता भी क्या? यदि वह कुछ बोलता तो उसकी चोरी पकड़ी जाती। इस तरह व्यपारी का कर्ज भी माफ़ हो गया और उसकी बेटी ने अपनी रक्षा भी कर ली।

दोस्तों , अगर हमारे देश के स्वतंत्रता सेनानी भी यह सोच लेते कि हम शक्तिशाली अंग्रेजों से कभी नहीं जीत पायेंगे तो शायद हमारा यह देश कभी आजाद ही नहीं हो पाता। जब तक आप समस्याओं के समाधान के बारे में नहीं सोचेंगे तब तक आप समस्याओं में ही उलझे रहेंगे।

अपने विचारों को खुलने दें, थोड़ा हटकर(Diffrent) सोचें, यह सोचें कि हर समस्या का हल है तो मेरी भी समस्या का कोई ना कोई हल जरूर होगा। ऐसा जब आप सोचने लगेंगे, तो यकीन मानिये आपको अपनी समस्याओं के हल भी मिलना शुरू हो जायेंगे।(यह भी पढ़ें- Motivational Story In Hindi – ये 5 कहानियाँ आपको सफल बना सकती है)

असफलता सफलता से कहीं ज्यादा महत्वपूर्ण है – Inspirational Story in Hindi

हम सभी लोगों के जीवन में एक ऐसा समय जरूर आता हैं, जब सभी चीजें जो हम करना चाहते है उसके विपरीत होता हैं और हर तरफ से निराशा मिलता हैं। चाहे आप एक सर्विस में हो या कुछ और आप जीवन के ऐसे मोड़ में आकर खड़े हो जाते हैं जहां सब कुछ गलत हो रहा होता हैं।

लेकिन सही बात तो यह है कि, विफलता सफलता से ज़्यादा महत्वपूर्ण होती है। हमारे इतिहास में जितने भी Businessman, साइंटिस्ट और महापुरुष हुए हैं वो जीवन में कई बार सफल होने से पहले लगातार फैल हुए हैं। दोस्तों जब हमलोग कोई काम कर रहे होते हैं तो जरूरी नही है कि सब कुछ सही ही होगा। लेकिन यदि आप इस वजह से प्रयास करना छोड़ देंगे तो जिंदगी में कभी भी सफल नही हो सकते हैं।

Best inspirational story in hindi

दोस्तों हम आपको ऐसे ही एक उदाहरण बताते हैं हेनरी फ़ोर्ड का, जो बिलियनेर और विश्वप्रसिद्ध फ़ोर्ड मोटर कंपनी के मलिक हैं। सफल बनने से पहले हेनरी फ़ोर्ड पाँच अन्य बिज़निस मे फेल हुए थे। लेकिन कोई और होता तो शायद पाँच बार अलग-अलग बिज़निस में फेल होने और कर्ज़ मे डूबने के कारण टूट जाता। लेकिन हेनरी फ़ोर्ड ने ऐसा नहीं किया और आज एक बिलिनेअर कंपनी के मलिक हैं।

बेस्ट मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी

जहाँ तक विफलता की बात किया जाए तो थॉमस अल्वा एडिसन का नाम सबसे पहले आता है, जिसने लाइट बल्व बनाने से पहले, लगभग 1000 विफल प्रयोग किए थे।

वैसे ही अल्बेर्ट आइनस्टाइन साहब जो 4 साल की उम्र तक कुछ बोल नहीं पाते थे, और 7 साल की उम्र तक निरक्षर थे लोग उसको दिमागी रूप से कमजोर भी मानते थे, लेकिन अपनी थ्ओरी और सिद्धांतों के बल पर वो दुनिया का सबसे बड़ा साइंटिस्ट बना।

मोटीवेशनल स्टोरी इन हिंदी

अब ज़रा सोचिये कि यदि हेनरी फ़ोर्ड पाँच बिज़नेस में फेल होने के बाद निराश होकर बैठ जाता, या एडिसन 999 असफल प्रयोग के बाद उम्मीद छोड़ देता और आईन्टाइन भी खुद को दिमागी कमजोर मान के बैठ जाता तो क्या होता?

हमलोग बहुत सारी महान प्रतिभाओं और अविष्कारों से अंजान रह जाते।

तो दोस्तों, इसलिए कहते हैं, असफलता सफलता से कहीं ज़्यादा महत्वपूर्ण है…..

असफलता ही इंसान को सफलता का मार्ग दिखाती है, किसी महापुरुष ने एक बात कही है कि –

“Winners never quit and quitters never win”

जीतने वाले कभी हार नहीं मानते और हार मानने वाले कभी जीत नहीं सकते”

आज के समय में सभी लोग अपने भाग्य और परिस्थियों को कोसते हैं। अब जरा सोचिये अगर एडिसन भी खुद को अनलकी समझ कर प्रयास करना छोड़ देता तो दुनिया एक बहुत बड़े आविष्कार से वंचित रह जाती। आइंस्टीन भी अपने भाग्य और परिस्थियों को कोस सकता था लेकिन उसके ऐसा नहीं किया तो आप क्यों करते हैं।

अगर आप किसी काम में असफल हो भी गए हो तो क्या हुआ ये अंत तो नहीं है ना, फिर से कोशिश करो, क्योंकि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

दोस्तों अंत में कहना चाहता हु की- असफलता तो सफलता की एक शुरुआत है, इससे घबराना नहीं चाहिये बल्कि पूरे जोश के साथ फिर से प्रयास करना चाहिये..

Best Inspirational story in Hind

हर मनुष्य के जीवन मे कुछ कार्य ऐसे जरूर होते हैं, जिन्हें करना उसे हमेशा असंभव लगता हैं, और जब कोई दूसरा व्यक्ति उसी असंभव काम को संभव करके दिखा देता है तो हमें लगता है कि यार वो बहुत लकी है।
दोस्तों दरअसल बात यह हैं कि, असंभव कार्य को करने के लिए जितनी मेहनत की जरूरत होती है, उतना आपने कभी किया ही नहीं..
दुनियां में कोई भी काम असंभव नहीं होता, बल्कि थोडा कठिन जरूर होता है, जब कोई काम कठिन होता है जिसे हमलोग आसानी से नहीं कर पाते हैं, तो बस हमलोग उसे असंभव कहने लगते हैं, यही असंभव शब्द जब हमारे दिमाग में बैठ जाता है तो हम फिर दोबारा प्रयास करना ही बंद कर देते हैं।

दोस्तों आपको याद होगा कि, पहले One Day Cricket में 300 रन बनाना, किसी भी टीम के लिए बहुत बड़ी बात होती थी, और यदि किसी टीम द्वारा 300 रन बना लिए जाते थे तो उसकी जीत निश्चित हो जाती थी। क्यूंकि उस समय तक 300 रन को पछाड़ना असंभव सा प्रतीत होता था।(यह भी पढ़ें- Inspirational Story In Hindi – ये कहानियां आपकी जिंदगी बदल सकता हैं।)

लेकिन समय बदला, नए खिलाड़ी आये… पिच पर रन तेजी से बनने लगे और आज के समय में वन डे में 300 रन बनाना बहुत मामूली सी बात है, अब तो लोग 400 रन को भी पछाड़ कर मैच जीत जाते हैं।

मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी

पहले वन डे में शतक बनाना भी अशंभव लगता था, और जो शतक बना लेते थे तो उसकी काफी तारीफें होती थी और वन डे में खाकर दोहरा शतक लगाना तो अशंभव ही था, उसके बारे में कोई खिलाड़ी सोचता भी नही था।

Motivational story in hindi

लेकिन हमारे देश के मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने लोगों के इस भ्रम को तोडा और वन डे में 200 रन बनाकर एक कीर्तिमान स्थापित किया। और ये कहानी यहीं नहीं रुकी, कुछ ही दिन बाद विस्फोटक बल्लेबाज सहवाग ने भी दोहरा शतक लगाकर साबित कर दिया की वन डे मैच में भी ये कारनामा किया जा सकता हैं। उसके बाद अब कई लोग दोहरा शतक वनडे मैच में अब बना चुके हैं।

तो दोस्तों इससे साबित होता हैं, की असंभव तो कुछ था ही नहीं.. बल्कि काम बेहद कठिन था इसलिए हम उसे असंभव मान बैठे।

कोई फर्क नहीं पड़ता, यदि आपने असंभव मान लिया……
कोई फर्क नहीं पड़ता, यदि आपने हिम्मत छोड़ दी….
अरे कोई फर्क नहीं पड़ता, यदि आपने प्रयास नहीं किया……

लेकिन एक बात याद रखना.. एक ना एक दिन एक ऐसा शख्स जरूर आयेगा जो इस असंभव को संभव बना कर दिखा देगा.. और ऐसा करके वो शख्स दुनिया में छा जायेगा और सिर्फ यही बोलोगे कि वो लकी था।
 
दोस्तों दुनिया में मेहनत करने वालों की कमी नहीं है, आप नहीं तो कोई और सही.. असंभव के इस चक्रव्यूह को कोई आकर चुटकियों में ढेर कर देगा, और आप देखते रह जाएंगे।
 
तो दोस्तों, असंभव शब्द को अपने मन, मष्तिष्क से निकाल दीजिये, क्यूंकि यह शब्द आपको जिंदगी की इस पटरी में आगे बढ़ने से रोक रहा है।

Leave a comment